जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी संस्कृत निबंध – माता और मातृभूमि का स्थान स्वर्ग से भी ऊपर है। यह एक प्रसिद्ध संस्कृत श्लोक का अन्तिम आधा भाग है। जो दो रूपों में मिलता है-

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी

प्रस्तावना

अस्याः सूक्तेः अयम् अर्थः यत् जननी अर्थात् माता, जन्मभूमिः च अर्थात् स देश यत्र जनस्य जन्म भवति एतें उभे स्वर्गात् स्वर्ग स्थानात् अपि गरीयस्यौ अर्थात् गुरुतरैस्तः। लोके इदं विश्रुतः भवति यत् स्वर्गलोके दुःखानाम् एव विधक्लेशानां च निराकरणं भवति तत्रं सर्वसुखाना उद्भवो भवति। दुःख स्थानं नरकं विहार सर्वे जनाः सुखस्य परमोच्चस्थानम् स्वर्ग कगयन्ते। परम अत्र अन्यत् एव प्रतिपादितम् स्वर्गतः अपि द्वै महत्तरे स्वः एका जन्मदात्री जननी अपरां च नज़ भूमि एवाभ्यास जनः स्वर्गादिपि अधिकं सुखं प्राप्नोति इति अभिप्रायः।

मित्राणि धन धान्यानि प्रजानां सम्मतानिव ।

जननी जन्म भूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ॥

मित्र, धन्य, धान्य आदि का संसार में बहुत अधिक सम्मान है। (किन्तु) माता और मातृभूमि का स्थान स्वर्ग से भी ऊपर है।

जननी कथं सुखदात्री

निज गर्भ संतान धृत्वा जननी तं तत्र रक्षति पोषयति च। जन्मनःऊर्ध्व जननी निज्म दापत्यम दिवारात्रम् एक मनसा रक्षति तस्य दुःखानि अपोहति तस्य जीवन सुखानां च सं चरणं करोति। स्वयं तदेव सर्व विधानि कष्टानि सहते। सः तस्य दुःखे दुःखं सुखे च आत्मन सुखं मन्यते ।

अपि स्वर्णमयी लङ्का न मे लक्ष्मण रोचते ।

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी ॥

लक्ष्मण! यद्यपि यह लंका सोने की बनी है, फिर भी इसमें मेरी कोई रुचि नहीं है। (क्योंकि) जननी और जन्मभूमि स्वर्ग से भी महान हैं।

जन्मभूमिः स्वर्गात् श्रेष्ठ

जन्मभूमिः अपि स्वर्गात श्रेष्ठः अस्ति। सा लोकानां शरणदायिनी, विविध खाद्यपदार्थ प्रदायनी लीलाभूमिः सर्व व्यवहाराणां तिष्ठति। अतएव सत्यं उक्त

जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी