सुदूर पूर्व एशिया का अध्ययन

सुदूर पूर्व एशिया चीन स्थिति भूवैज्ञानिक संरचना चीन भूपृष्ठीय रचना
चीन की स्थलाकृतियां चीन भौगोलिक निबंध चीन का पठारी भाग
चीन की जलवायु चीन के वन 10 वनस्पतियां वन विनाश चीन की मिट्टियां
चीन कृषि विशेषताएं महत्व चीन खनिज संसाधन चीन जनसंख्या वृद्धि

जापान भौगोलिक स्थिति जापान भूपृष्ठीय रचना जापान की जलवायु
जापान स्थलाकृतियां जापान के वन महत्व वन विनाश जापान की मिट्टियां
जापान कृषि विशेषताएं महत्व

जापान कृषि विशेषताएं

जापान कृषि विशेषताएं महत्व

जापान कृषि विशेषताएं – जापान में कृषि छोटे पैमाने पर होती है। यहां के कुल भूमि का केवल 16% भाग कृषि योग्य है। जापान में कृषि क्षेत्र सीमित होने के कारण यहां के किसान इस प्रकार की पद्धति को अपनाते हैं जिससे भूमि से अधिकतम उत्पादन किया जा सके। इस प्रकार सीमित भूमि पर पैदा …

जापान कृषि विशेषताएं महत्व Read More »

चीन की मिट्टियां, जापान की मिट्टियां

जापान की मिट्टियां

जापान की मिट्टियां – जापान में केवल 15% भूमि कृषि योग्य है, दूसरी ओर अत्यधिक भूमि का अपरदन जापानी कृषि पर प्रभाव डालता है। जापान एक पर्वतीय देश है। ऊचे भागों से निकलने वाली नदियां तीव्र गति से प्रवाहित होती है। जिससे मिट्टी का अपरदन अधिक होता है और मिट्टी कृषि योग्य नहीं रह पाती …

जापान की मिट्टियां Read More »

चीन के वन, जापान के वन

जापान के वन महत्व वन विनाश

जापान के वन – प्राकृतिक वनस्पति के अंतर्गत सभी प्रकार के वन, झाड़ियां तथा घासें सम्मिलित की जाती हैं। जलवायु, धरातल तथा मिट्टी की विभिन्नता प्राकृतिक वनस्पति को निर्धारित करती है। शीतोष्ण कटिबंधीय मानसूनी जलवायु के कारण यहां विभिन्न प्रजाति के वृक्ष तथा अनेक प्रकार की वनस्पतियां पाई जाती हैं। यहां की अर्थव्यवस्था में वनों …

जापान के वन महत्व वन विनाश Read More »

जापान भौगोलिक स्थिति

जापान स्थलाकृतियां

जापान स्थलाकृतियां – जापान का धरातलीय स्वरूप सभी जगह एक जैसा नहीं है। यह स्थलाकृति या पूरे देश में विक्रय रूप में मिलती है। जापान के धरातलीय स्वरूप को भारत की तरह (पर्वत, पठार, मैदान व तटवर्ती क्षेत्र) विभाजित नहीं कर सकते। यहां पर पर्वत पठार मैदान टुकड़ों में चारों द्वीपो पर मिलते हैं। जापान …

जापान स्थलाकृतियां Read More »

जापान की जलवायु

जापान की जलवायु

जापान की जलवायु – महाद्वीप एवं समुद्री वायु राशियां, चक्रवात, हरीकेन तथा मानसून हवाएं जापान की जलवायु को प्रभावित करती हैं। यहां की जलवायु शीतोष्ण मानसूनी है। शीतोष्ण कटिबंधीय प्रदेशों में स्थित होने के कारण यहां की जलवायु पर धरातल की अपेक्षा सामुद्रिक दशाओं का प्रभाव अधिक पड़ता है। इसी कारण शीत ऋतु में तापमान …

जापान की जलवायु Read More »

जापान भूपृष्ठीय रचना

जापान भूपृष्ठीय रचना

जापान भूपृष्ठीय रचना – जापान को प्राकृतिक प्रदेशों के निर्धारण में उच्चावच संरचना अपवाह के सम्मिलित भौतिक तत्वों के साथ ही जलवायु और जैविक तत्वों जैसे प्राकृतिक वनस्पति तथा जंतुओं को भी सम्मिलित किया जाता है। प्राकृतिक प्रदेशों की संकल्पना प्राकृतिक तत्वों की समरूपता पर आधारित होती है। एक प्राकृतिक प्रदेश के भीतर उच्चावच, जलवायु, …

जापान भूपृष्ठीय रचना Read More »

चीन स्थिति भूवैज्ञानिक संरचना

जापान भौगोलिक स्थिति

जापान भौगोलिक स्थिति – द्वीपों का देश जापान पूर्व का ब्रिटेन कहा जाता है। इसे उगते हुए सूरज का देश भी कहा जाता है। जापान उत्तरी गोलार्द्ध तथा पूर्वी गोलार्ध में एक द्वीप दुनिया के नाम से स्थित है। जापान की प्रगति का मुख्य कारण उसकी भौगोलिक स्थिति है। जापान द्वीप समूह के पश्चिम में …

जापान भौगोलिक स्थिति Read More »

चीन जनसंख्या वृद्धि

चीन जनसंख्या वृद्धि

चीन जनसंख्या वृद्धि – विलकालस के अनुमान के अनुसार चीन की जनसंख्या 1650 ईसवी में 7 करोड़ थी। जो 1710 ईसवी में 14 करोड़, 1850 में 34 करोड़ तथा 1930 ईस्वी में 43.2 करोड़ तक हो गई। विश्व बैंक के अनुमान के अनुसार, 1990 में चीन की जनसंख्या 11344 लाख हो गई थी। आज चीन …

चीन जनसंख्या वृद्धि Read More »

चीन खनिज संसाधन

चीन खनिज संसाधन

चीन खनिज संसाधन – चीन में कोयले की तरह खनिज संसाधन भी यहां के प्रत्येक क्षेत्र में थोड़ा बहुत मिलता है। अक्टूबर 1949 से स्थापित साम्यवादी सरकार ने भू सर्वेक्षण द्वारा पता लगाया कि चीन में आशा के अनुरूप खनिज संपदा नहीं है। पिछले 25 से 30 वर्षों में चीन में नए-नए खनिजों के उत्पादन …

चीन खनिज संसाधन Read More »

चीन कृषि विशेषताएं महत्व

चीन कृषि विशेषताएं – 1911 की क्रांति के बाद चीन की जनसंख्या में तेजी से वृद्धि हुई। इसी बीच जापान ने भी चीन पर आक्रमण कर दिया। जिसके परिणाम स्वरूप चीन की कृषि पूरी तरह से अव्यवस्थित हो गई। उन्हें गेहूं और चावल का अधिक मात्रा में आयात करना पड़ता था। 1949 में क्रांति शुरू …

चीन कृषि विशेषताएं महत्व Read More »

चीन की मिट्टियां, जापान की मिट्टियां

चीन की मिट्टियां

चीन की मिट्टियां – मिट्टी पर्यावरण की उपज है। मिट्टी को निर्मित करने में 4 संघटक व 4 मंडलों का योगदान है। जैसे स्थलमंडल से चट्टान चूर्ण, वायुमंडल से वायु या गैस, जलमंडल से जल तथा जीवमंडल से ह्यूमस प्राप्त होता है। इन सभी के मिश्रण से मिट्टी बनती है। जिसे मृदा मंडल कहते हैं। …

चीन की मिट्टियां Read More »

चीन के वन, जापान के वन

चीन के वन 10 वनस्पतियां वन विनाश

चीन के वन – प्राकृतिक वनस्पति पर जलवायु और मिट्टी का प्रभाव सबसे अधिक पड़ता है। वर्तमान समय में केवल 14.3% भाग पर वन पाए जाते हैं। यहां की प्राकृतिक वनस्पति में वन, घास के मैदान तथा मरुस्थलीय झाड़ियों की प्रधानता है। यहां के उत्तरी पूर्वी भाग में सदाबहार वन, दक्षिणी पूर्वी भाग में मानसूनी …

चीन के वन 10 वनस्पतियां वन विनाश Read More »

नगरीकरण

चीन की जलवायु

चीन की जलवायु – भौगोलिक विविधता व विस्तृत क्षेत्रफल के कारण चीन में अनेक प्रकार की जलवायु मिलती है। कोपेन जलवायु वर्गीकरण के आधार पर चीन में निम्न जलवायु प्रदेश मिलते हैं- शीतल स्टेपी शुष्क शीत प्रकार शीतल मरुस्थलीय प्रकार गर्म शुष्क शीतकाल प्रकार गर्म आद्र प्रकार शीतल शुष्क शीतकालीन प्रकार शीतल शुष्क शीत ऋतु …

चीन की जलवायु Read More »

चीन का पठारी भाग

चीन का पठारी भाग

चीन का पठारी भाग – चीन के लगभग 34% भाग पर पठार विस्तृत है। इनमें से अधिकांश पठारी भाग पर्वत श्रेणियों से घिरे हुए हैं। कुछ विशेष पठार निम्न है- तिब्बत का पठार यूनान का पठार मंगोलिया का पठार लोयस का पठार चीन का पठारी भाग तिब्बत का पठार तिब्बत का पठार चीन का सबसे …

चीन का पठारी भाग Read More »

चीन

चीन भौगोलिक निबंध

चीन भौगोलिक निबंध – चीन भारत के उत्तर एवं उत्तर पूर्व में अवस्थित एक विशाल देश है। यह एशिया महाद्वीप के एक चौथाई भाग पर स्थित है। यह देश दक्षिण में हाई नांदुरी प्रश्न उत्तर में मंचूरिया के उत्तरांश तक लगभग 4000 किलोमीटर तक विस्तृत है। चीन 10° उत्तर से 54° उत्तरी अक्षांश तक तथा …

चीन भौगोलिक निबंध Read More »