मुक्त विश्वविद्यालय

शिक्षा के क्षेत्र में मुक्त विश्वविद्यालय एक नवीन अवधारणा है। मुक्त विश्वविद्यालय का अर्थ उस विश्वविद्यालय से है जो विश्वविद्यालय परिसर से दूर रहने वाले छात्रों को शिक्षा प्रदान करता है। मुक्त विश्वविद्यालय के द्वार छात्रों के लिए सदैव खुले रहते हैं। इससे यह अभिप्राय है कि मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत शिक्षा प्राप्त करने के लिए न तो किसी प्रकार का आयोजन है और न ही औपचारिक शिक्षा की आवश्यकता होती है।

मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत मुख्यत: अध्ययन के दो क्षेत्र हैं-

  1. स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम
  2. उत्तरोत्तर अनुभव प्रशिक्षण और शिक्षा
मुक्त विश्वविद्यालय
मुक्त विश्वविद्यालय

भारत में मुक्त विश्वविद्यालय

भारत में मुक्त विश्वविद्यालय का विचार डॉक्टर वी के आर वी राव ने दिया। जनसंख्या विस्फोट और शिक्षा के अधिकार के संविधानिक प्रावधान के कारण देश में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ गई है। इसलिए उत्पन्न होने वाली समस्याओं के निवारण हेतु भारत सरकार ने जी पार्थसारथी की अध्यक्षता में एक कार्यकारी समूह का गठन किया और इस कार्यकारी समूह ने भारत में मुक्त विश्वविद्यालय की स्थापना की। जी• पार्थसारथी दिल्ली विश्वविद्यालय के उप कुलपति थे। कार्यकारी समूह की संस्कृति के आधार पर भारत में मुक्त विश्वविद्यालय की स्थापना करने का सूत्रपात हुआ। भारत में स्थापित कुछ मुक्त विश्वविद्यालय निम्न है –

  1. दिल्ली विश्वविद्यालय 1962
  2. पंजाबी विश्वविद्यालय पटियाला 1967
  3. जम्मू विश्वविद्यालय जम्मू 1976
  4. आंध्र मुक्त विश्वविद्यालय 1982
  5. मुक्त विद्यालय दिल्ली 1983
  6. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय 1985
  7. नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय बिहार 1987
  8. कोटा मुक्त विश्वविद्यालय राजस्थान 1987
  9. महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक 1988
  10. शिमला विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश 1971
मुक्त विश्वविद्यालय
मुक्त विश्वविद्यालय

मुक्त विश्वविद्यालय की विशेषताएं

मुक्त विश्वविद्यालय की विशेषताएं निम्न है-

  1. मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत प्रवेश संबंधी नियम आसान है। इनमें विद्यार्थियों को औपचारिक योग्यताओं के अभाव में अध्ययन से वंचित नहीं किया जा सकता।
  2. मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत विद्यार्थी स्वयं की अनुमति से और स्वयं की सुविधा अनुसार अध्ययन करता है।
  3. मुक्त विश्वविद्यालय एक लचीली शैक्षणिक प्रणाली है। इसमें समय और स्थान का प्रबंध नहीं होता है और किसी भी पाठ्यक्रम के युग्मक को चयनित करने की स्वतंत्रता होती है।
  4. मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत शिक्षा कक्षा कक्षा आधारित ना होकर गृह आधारित शिक्षा होती है अर्थात विद्यार्थी घर पर शिक्षा प्राप्त करता है।
  5. मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा शिक्षा के अंतर्गत साख का स्थानांतरण एक कार्यक्रम से अन्य कार्यक्रम और एक विश्वविद्यालय से दूसरे विश्वविद्यालय को परंपरागत या गैर परंपरागत रूप से होता है।
  6. मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत जनसमूह को शिक्षित करने के उद्देश्य से केवल शिक्षक पर निर्भर रहने की बजाय संचार तकनीकी का उपयोग किया जाता है।
  7. मुक्त विश्वविद्यालय के अंतर्गत शिक्षण की गुणवत्ता होती है क्योंकि इसके शैक्षणिक कार्यक्रमों को तैयार करने के लिए देश के सर्वोत्तम विशेषज्ञों की मदद ली जाती है।
वैदिककालीन शिक्षाबौद्धकालीन शिक्षामुस्लिमकालीन शिक्षा
तक्षशिला विश्वविद्यालयमैकाले का विवरण पत्र 1835लॉर्ड विलियम बैंटिक की शिक्षा नीति
वुड का घोषणा पत्रहण्टर आयोगलार्ड कर्जन की शिक्षा नीति
सैडलर आयोग 1917सार्जेण्ट रिपोर्ट 1944मुदालियर आयोग 1952
कोठारी आयोग 1964राष्ट्रीय पाठ्यक्रम 2005बेसिक शिक्षा
विश्वविद्यालय शिक्षा आयोगशिक्षा का राष्ट्रीयकरणत्रिभाषा सूत्र
राष्ट्रीय साक्षरता मिशनप्रौढ़ शिक्षा अर्थप्रशिक्षित अप्रशिक्षित शिक्षक में अंतर
दूरस्थ शिक्षा अर्थ परिभाषाऑपरेशन ब्लैक बोर्डशिक्षक शिक्षा की समस्याएं
विश्वविद्यालय संप्रभुताउच्च शिक्षा समस्याएंउच्च शिक्षा समस्याएं
उच्च शिक्षा के उद्देश्यशैक्षिक स्तर गिरने के कारणमुक्त विश्वविद्यालय
मुक्त विश्वविद्यालय के उद्देश्यशिक्षा का व्यवसायीकरणसर्व शिक्षा अभियान
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments