संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता

संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता – पाठ शालाओं की आत्मा होने के कारण पाठ्यक्रम में एकात्मक संतुलन और संजीवता होनी चाहिए। शिक्षा ऐसे जीवन के लिए होती है जो स्थिर न रहकर परिवर्तनशील होता है। शिक्षण एक निरंतर चलते रहने वाला कार्य है। इसीलिए यह थोड़े वर्षों में ही नहीं हो सकता। शैशव से मृत्यु तक का प्रत्येक कार्य शिक्षाप्रद होता है।

संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता
संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता

इसीलिए इसे ज्ञान पूर्ण तथाकथित विषयों में विभाजित करना हास्यप्रद है। पाठ्यक्रम में होने वाले प्रत्येक कार्य तथा प्रत्येक संबंध पाठ्यक्रम है। पाठ्यक्रम निरंतर प्रगतिशील तथा परिवर्तनशील संसार में प्रगतिशील बच्चे के लिए एक प्रगतिशील व परिवर्तनशील क्रम है।

संतुलित पाठ्यक्रम आवश्यकता

नई शिक्षा नीति 1986 तथा राष्ट्रीय पाठ्यक्रम नई शिक्षा नीति में पाठ्यक्रम संबंधी निम्नलिखित दिशानिर्देशों अथवा सिद्धांतों को ध्यान में रखा गया है

  1. पाठ्यक्रम संविधान में दर्शाए मूल्यों पर आधारित हो।
  2. पाठ्यक्रम समाजवाद, धर्मनिरपेक्षता तथा प्रजातंत्र को बढ़ावा देने वाला हो।
  3. पाठ्यक्रम देश की सांस्कृतिक परंपराओं तथा आधुनिक टेक्नोलॉजी की खाई को पाटने वाला हो
  4. पाठ्यक्रम में मूल्यों की शिक्षा का प्रावधान हो
  5. 1968 की भाषा नीति को अपनाया जाए।
  6. पाठ्यक्रम में पर्यावरण शिक्षा की व्यवस्था हो।
  7. पाठ्यक्रम में कार्य अनुभव गणित शिक्षण और विज्ञान शिक्षण को दृढ़ किया जाए।
  8. पाठ्यक्रम में संकीर्ण विचारों की कोई बात नहीं होनी चाहिए।
  9. खेल और शारीरिक शिक्षा को पाठ्यक्रम का अभिन्न अंग बनाया जाए।
  10. पाठ्यक्रम में व्यवसायिक विषयों पर विशेष बल दिया जाए।
  11. एक कोर पाठ्यक्रम हो जो सभी छात्रों के लिए अनिवार्य हो।
वैदिककालीन शिक्षाबौद्धकालीन शिक्षामुस्लिमकालीन शिक्षा
तक्षशिला विश्वविद्यालयमैकाले का विवरण पत्र 1835लॉर्ड विलियम बैंटिक की शिक्षा नीति
वुड का घोषणा पत्रहण्टर आयोगलार्ड कर्जन की शिक्षा नीति
सैडलर आयोग 1917सार्जेण्ट रिपोर्ट 1944मुदालियर आयोग 1952
कोठारी आयोग 1964राष्ट्रीय पाठ्यक्रम 2005बेसिक शिक्षा
विश्वविद्यालय शिक्षा आयोगशिक्षा का राष्ट्रीयकरणत्रिभाषा सूत्र
राष्ट्रीय साक्षरता मिशनप्रौढ़ शिक्षा अर्थप्रशिक्षित अप्रशिक्षित शिक्षक में अंतर
दूरस्थ शिक्षा अर्थ परिभाषाऑपरेशन ब्लैक बोर्डशिक्षक शिक्षा की समस्याएं
विश्वविद्यालय संप्रभुताउच्च शिक्षा समस्याएंउच्च शिक्षा समस्याएं
उच्च शिक्षा के उद्देश्यशैक्षिक स्तर गिरने के कारणमुक्त विश्वविद्यालय
मुक्त विश्वविद्यालय के उद्देश्यशिक्षा का व्यवसायीकरणसर्व शिक्षा अभियान
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments